Home » Hindi Quotes » Chanakya Niti in Hindi-चाणक्य नीति

Chanakya Niti in Hindi-चाणक्य नीति

हमारे देश के आचार्य चाणक्य(Chanakya) एक ऐसे महान विद्वान रहे है जिनकी बताई गयी बातें आज भी उतनी ही प्रासंगिक (Relevant) है जितनी उनके समय में थी. वे चाणक्य ही थे जिन्होंने अपनी कूटनीति (Diplomacy) के द्वारा साधारण चन्द्रगुप्त मौर्य (Chandragupta Maurya) को मगध का राजा बना दिया था. चाणक्य ने “चाणक्य नीति(chanakya-neeti)” नामक किताब लिखी. जिसमे ऐसी बातें बताई गयी है जो हमारे जीवन को एक सार्थक मोड़ दे सकती है.

हमें अपने जीवन में क्या करना है और क्या नहीं ? इनका बड़ा अच्छा वर्णन चाणक्य नीति में मिलता है. आचार्य चाणक्य की बताई गयी 11 बातें में आज यहाँ आपके साथ शेयर कर रहा हूँ जो आपके जीवन में बड़ा परिवर्तन ला सकती है.

 

 

1:-व्यक्ति अकेले पैदा होता है और अकेले मर जाता है; और वो अपने अच्छे और बुरे कर्मों का फल खुद ही भुगतता है; और वह अकेले ही नर्क या स्वर्ग जाता है.

  चाणक्य Chanakya

2:-सेवक को तब परखें जब वह काम ना कर रहा हो, रिश्तेदार को किसी कठिनाई  में, मित्र को संकट में, और पत्नी को घोर विपत्ति में.

  चाणक्य Chanakya

3:- संतुलित दिमाग जैसी कोई सादगी नहीं है, संतोष जैसा कोई सुख नहीं है, लोभ जैसी कोई बीमारी नहीं है, और दया जैसा कोई पुण्य नहीं है.

  चाणक्य Chanakya

4:-यदि किसी का स्वभाव अच्छा है तो उसे किसी और गुण की क्या जरूरत है ? यदि आदमी के पास प्रसिद्धि है तो भला उसे और किसी श्रृंगार की क्या आवश्यकता है.

  चाणक्य Chanakya

5:-पृथ्वी सत्य की शक्ति द्वारा समर्थित है; ये सत्य की शक्ति ही है जो सूरज को चमक और हवा को वेग देती है; दरअसल सभी चीजें सत्य पर निर्भर करती हैं.

  चाणक्य Chanakya

6:-वो जिसका ज्ञान बस किताबों तक सीमित है और जिसका धन दूसरों के कब्ज़े मैं है, वो ज़रुरत पड़ने पर ना अपना ज्ञान प्रयोग कर सकता है ना धन.

  चाणक्य Chanakya

7:-जो सुख-शांति व्यक्ति को आध्यात्मिक शान्ति के अमृत से संतुष्ट होने पे मिलती है वो लालची लोगों को बेचैनी से इधर-उधर घूमने से नहीं मिलती.

  चाणक्य Chanakya

8:-एक अनपढ़ व्यक्ति का जीवन उसी तरह से बेकार है जैसे की कुत्ते की पूँछ, जो ना उसके पीछे का भाग ढकती  है ना ही उसे कीड़े-मकौडों के डंक से बचाती है.

  चाणक्य Chanakya

9:-एक उत्कृष्ट बात जो शेर से सीखी जा सकती है वो ये है कि व्यक्ति जो कुछ भी करना चाहता है उसे पूरे दिल और ज़ोरदार प्रयास के साथ करे.

  चाणक्य Chanakya

10:-सारस की तरह एक बुद्धिमान व्यक्ति को अपनी इन्द्रियों पर नियंत्रण रखना चाहिए और अपने उद्देश्य को स्थान की जानकारी, समय और योग्यता के अनुसार प्राप्त करना चाहिए.

  चाणक्य Chanakya